बचत और निवेश में अंतर

बचत और निवेश में अंतर को समझना बहुत ज़रूरी है। बहुत से लोग बचत और निवेश में अंतर को समझ नहीं पाते जिसके कारण ना तो वे लोग योजना बद्ध तरीक़े से बचत ही कर पाते है और ना ही सही तरीक़े से निवेश कर पाते हैं। आज हम समझते हैं कि बचत किसे कहा जाएगा और निवेश किसे कहा जाएगा साथ ही समझेंगे कि दोनों में मुख्यत क्या फ़र्क़ है। और इसे समझ कर  कैसे हम अपने जीवन के वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं।

बचत और निवेश में अंतर
बचत और निवेश में अंतर

अक्सर देखा गया है कि लोग अपने वित्तीय लक्ष्य प्राप्त करने में हमेशा पिछड़ जाते हैं। ये लोग नियमित बचत करते रहने के बावजूद अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए संघर्ष करते रह जाते हैं। अपने जीवन के वित्तीय लक्षयों को पूरा करने के लिए यह जानना ज़रूरी है कि हम उन लक्षयों को पूरा करने के लिए कितनी बचत कर रहे हैं और उसे कहाँ निवेशित कर रहे हैं जिससे कि हम अपने निर्धारित उद्देश्य के अनुसार पैसा जोड़ सकें।

बचत और निवेश में अंतर

साधारण भाषा में समझा जाए तो बचत और निवेश में अंतर इतना ही है कि जो राशि आप अपनी नियमित आय से बचा कर अलग रख लेते हैं वह बचत है और यदि आप अपनी उस बचत तो कुछ रिटर्न प्राप्त करने के लिए ऐसा कुछ ख़रीदते हैं जो कि भविष्य में आपकी सम्पत्ति बन सके। अब हम बचत और निवेश में अंतर को विस्तार से समझते हैं।

बचत

बचत अल्पकालिक लक्षयों के लिए है। बचत खाता, आरडी यानी recurring deposit, एफडी यानी fixed deposit या अन्य किसी भी तरीक़े से अलग से रखे गए पैसे को बचत कह सकते हैं। गृहनियों द्वारा बचा कर किचन में चावल के मर्तबान में रखा पैसा भी बचत की श्रेणी में ही आएगा। बचत में रखा पैसा जब चाहिए हो तब सहजता से उपलब्ध होता है। अक्सर यह बचत अल्पकलीन लक्षयों या आपातकालीन ज़रूरतों के लिए होती है। बचत में रखा गया आपका पैसे निवेश के मुक़ाबले अधिक सुरक्षित रहता है।
इसमें बहुत कम या ना के बराबर जोखिम होता है। बचत में आपको रिटर्न बहुत कम मिलता है क्योंकि सभी बचत योजनाओं में ब्याज की कम दर होती है। आपको केवल इतना ही रिटर्न मिलता है जिससे मुद्रास्फीति मुश्किल से कवर हो पाती है।


बचत किए गए पैसे को दो साल से अधिक नहीं रखें। यदि दो साल से अधिक रखना चाहते हैं तो उस पैसे को कहीं निवेश कर लें जिससे आपका धन कुछ बेहतर रिटर्न दे सके।

निवेश

दीर्घकालिक आर्थिक लक्ष्यों के लिए निवेश किया जाता है। निवेश के श्रेष्ठ उदाहरण हैं स्टॉक, बॉन्ड और रियल एस्टेट। निवेश के लिए आदर्श समय अवधि न्यूनतम 3 साल है।
मुख्य बचत और निवेश में अंतर यही है कि निवेश में आप उच्च रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। निवेश में ऊँचे रिटर्न की सम्भावना के साथ रिस्क भी रहता है। निवेश से आप लंबे समय तक मुद्रास्फीति को पछाड़ कर अपने धन में वृद्धि कर सकते है। म्यूचूअल फ़ंड और SIP निवेश के श्रेष्ठ तरीक़े है। निवेश किया गया पैसा एकदम से उपलब्ध नहीं रहता है और इसे बेचने में समय लग सकता है।

तो अपने पैसे की सुरक्षित करने के लिए बचत कीजिए और अपने पैसे को बढ़ाने के लिए उसका कहीं निवेश कीजिए। यह सब समझने के बाद आप योजना बद्ध तरीक़े से निवेश कीजिए और अपने वित्तीय लक्ष्य प्राप्त करने के लिए जुट जाइए।