Current Account in Hindi

करंट अकाउंट क्या है और इसके क्या फायदे हैं, किसी भी व्यवसाय के लिये चालू खाता खोलने के क्या क्या लाभ हो सकते हैं यह कैसे काम करता है, इसके क्या नियम हैं और इससे कैसे किसी भी व्यवसाय को सुविधा हो सकती है यह सब जानेंगे विस्तार से आसान हिंदी में। यहां हमारी साइट पर पढ़ें बैंक खातों के प्रकार विस्तार से।

करंट अकाउंट क्या है
करंट अकाउंट क्या है

करंट अकाउंट क्या है

करंट अकाउंट यानी चालू बैंक खाते कंपनियों, फर्मों, सार्वजनिक उद्यमों, व्यवसायियों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं। जिनके पास आम तौर पर बैंक के साथ नियमित लेनदेन की अधिक संख्या होती है उनके लिये यह अकाउंट बहुत सुविधाजनक होते हैं। चालू खाते में जमा, निकासी, और अन्य प्रकार के लेनदेन कर सकते हैं। अधिकांश वाणिज्यिक बैंकों में चालू खाता खोला जा सकता है। चालू खाता शून्य ब्याज खाता है जो कि आमतौर पर नियमित आधार पर बड़े लेनदेनों से जुड़ा होता है। इन खातों की तरलता की वजह से इन पर कोई ब्याज नहीं मिलता हैं। आमतौर पर इन खातों में लेनदेन की संख्या पर सीमा नहीं होती है। यहां पढ़ें करंट अकाउंट और सेविंग अकाउंट में अंतर हमारी साइट पर।

करंट अकाउंट के फायदे

चालू खाते में असीमित मात्रा में लेनदेन की अनुमति के कारण व्यवसायी को अपने वित्तीय ट्रंजेक्शन करने में कोई कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ता है। इन खातों में जमा करने और निकासी पर कोई प्रतिबंध नहीं होता है। इन खातों में चेक, डिमांड ड्राफ्ट और पेऑर्डर की सुविधा मिलती है जिससे व्यवसायियों को भुगतान करने में आसानी होती हे। बैंक चाहे तो इन खातों पर व्यवसायी को ओवरड्राफ्ट की सुविधा भी दे सकता है। आमतौर पर बैंक अपने चालू खाता धारकों का ख्याल रखते हैं और उनके व्यवसाय के आकार के आधार पर सुविधायें प्रदान करने से पीछे नहीं हटते।

आसानी

व्यवसायी को किसी भी ब्रांच से निकासी की सुविधा मिल सकती है। इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग की सुविधा से व्यवसाय की जरूरतों के अनुसार कहीं से भी कभी भी बैंक ट्रांजेक्शन किया जा सकता है। अन्य कई सुविधाओं के अलावा बैंक की किसी भी शाखा में जमा करने की सुविधा, निकासी की सुविधा और फंड ट्रांसफर की सुविधा मिलती है।


सुविधाजनक

कोई भी व्यवसायी अपने व्यापार को सुविधापूर्वक चलाने के लिये और आसान लेनदेन के लिये करंट अकाउंट ही खुलवाता है। यह खाते फर्म या कंपनी के नाम से खुलते हैं और कंपनी द्वारा नियुक्त व्यक्ति इन्हें चलाता है, चेक जारी करता है और बैंक को अन्य निर्देश देता है। बैंक को चेक जारी करने या किसी भी तरह का पत्राचार करने के लिये फर्म या कंपनी की मुहर अधिकृत व्यक्ति के हस्ताक्षरों के साथ लगाना आवश्यक होता है।

करंट अकाउंट के नुकसान

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि इन खातों पर ब्याज नहीं मिलता है। बैंक कई तरह के ट्रांजेक्शन पर शुल्क भी लगाते हैं। मगर इन खातों में मिलने वाली सुविधा को देखते हुए आमतौर पर यह स्विकार्य होता है।

यह हमारी कोशिश थी Current Account in Hindi समझने की। कोई सवाल आप नीचे टिप्पणी कर पूछ सकते हैं। 


Leave A Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *