Share Bazar » शेयर बाजार सीखें » Investment » Debit Card in Hindi

Debit Card in Hindi

Debit Card in Hindi डेबिट कार्ड के बारे में सारी जानकारी, कहां क्या लिखा होता है, एक्सपायरी डेट कहां लिखी होती है, सिग्नेचर पैनल क्या है और अन्य कौन सी सूचनायें इस पर होतीं हैं और इनके प्रयोग क्या हैं। साथ ही समझेंगे इसके क्या क्या प्रयोग हैं। आपको भी यदि नया डेबिट कार्ड मिला है और जानना चाहते हें कि इस पर कौन सी सूचना कैसे मिलेगी और इसे कहां प्रयोग कर सकते हैं तो यह सब विस्तार से आपको बताते हैं। यह सब जानकारियां आपको अपने कार्ड को सुरक्षित रूप से प्रयोग करने में सहायक होंगी। साथ ही पढ़िये रुपे डेबिट कार्ड क्या है और डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में अंतर हमारी साइट पर। यहां पढ़िये Toll free Numbers of Banks and Insurance Companies.


डेबिट कार्ड
Debit Card in Hindi

डेबिट कार्ड क्या है

डेबिट कार्ड एक तरह से पेमेंट कार्ड होता है जो खरीद के लिए भुगतान करने के लिए उपभोक्ता के बैंक खाते से सीधे पैसे निकाल दुकानदार को पेमेंट करता है। यह बाजार जा कर खरीददारी करने के लिए नकदी रखने की आवश्यकता को खत्म करता हैं। डेबिट कार्ड रुपे, वीज़ा या मास्टरकार्ड जैसे प्रमुख भुगतान प्रोसेसर कंपनियों द्वारा जारी किया जाता है। यहां पढ़ें मोबाइल बैंकिंग क्या है हमारी साइट पर।


प्रयोग

डेबिट कार्ड ATM कार्ड का भी काम करते हैं। आप इससे ATM के जरिये अपने बैंक खाते से पैसे भी निकाल सकते हैं और दुकानों पर खरीददारी भी कर सकते हैं। यह ऑनलाइन पेमेँट करने के काम भी आते हैं।

पिन नंबर

आपको Debit Card के साथ एक पिन भी मिलता है जो आमतौर पर चार अंकों का होता है। अपने खाते की सुरक्षा के लिये इस गुप्त नंबर को किसी को बताना नहीं चाहिये। ATM से पैसे निकालने और दुकान से खरीददारी करने के लिये इस पिन नंबर का प्रयोग किया जाता है। ATM से पैसे निकालने या खरीददारी करने पर पैसे तुरंत उस डेबिट कार्ड से जुड़े बैंक खाते से निकल जाते हैं।

कहां क्या लिखा है

डेबिट कार्ड पर सबसे ऊपर बैंक का लोगो होता है। फिर आपके Debit Card का सोलह अंकों का नंबर लिखा होता है। उसके बाद Expires on या Velid upto लिखा रहता है। यह वो तारीख है जब तक आपका कार्ड मान्य रहने वाला है। इसके बाद खाता धारक का नाम लिखा रहता है। साथ ही कार्ड जारी करने वाली कंपनी यानी वीजा, मास्टरकार्ड या रुपे का लोगो बना होगा। यह तीनों पेमेंट गेटवे कंपनियां हैं। रुपे भारत की अपनी पेमेंट गेटवे है। कार्ड के पीछे एक सफेद पट्टी दिखेगी यह सिग्नेचर पैनल है जिस पर कार्डधारी को साइन करना होता है।

CVV नंबर

सिग्नेचर पेनल के साथ तीन अंकों का CVV नंबर लिखा रहता है जिसे Card Verification Value कहते हैं। यह CVV नंबर भी गुप्त रखना चाहिये।

चिप और काली पटटी

इसके अलावा कार्ड पर आपको एक सुनहरी चिप दिखेगी और पीछे की तरफ एक काली पटटी दिखेगी। चिप और काली पटटी में चुंबकीय डाटा होता है। इनमें आपके खाते की सूचनायें छिपी होतीं हैं जिन्हें पढ़ कर ATM मशीन या POS मशीन आपकी पेमेंट को प्रोसेस करते हैं। POS मशीन या प्वॉइट ऑफ सेल मशीन वह मशीन है जिस में कार्ड डाल कर दुकानदार पेमेंट प्रोसेस करते हैं।

कार्ड की सुरक्षा

अपने डेबिट कार्ड को हमेशा संभाल कर रखें। किसी दूसरे को कार्ड प्रयोग करने के लिये कभी भूल कर भी ना दें। अपना पिन नंबर और CVV भी कभी किसी को ना बतायें। यदि आपका कार्ड गुम हो जाये या चोरी हो जाये तो तुरंत अपने बैंक को फोन कर उसे ब्लॉक करवा दें।

इस प्रकार यदि आप Debit Card in Hindi पढ़ कर अपने डेबिट कार्ड के बारे में सब कुछ जानते होंगे तो उसको सही और सुरक्षित तरीके से प्रयोग कर पायेंगे।

जरूर पढ़ें निवेश पर हमारे यह पोस्ट

Leave a Comment