लार्ज कैप कंपनियां

लार्ज कैप कंपनियां किन्हें कहते हैं, मार्केट कैपिटलाइजेशन के अनुसार कंपनियों का वर्गीकरण कैसे किया जाता है। किस प्रकार अलग अलग मार्केट कैप के शेयर निवेश के रिस्क को कम या ज्यादा करते हैं। अलग मार्केट कैप के साथ कंपनी की विशेषतायें कैसे बदलतीं हैं और कैसे लार्ज कैप कंपनियां निवेश के लिये सभी वर्गों द्वारा पसंद की जातीं हैं। Large Cap Companies in Hindi. शेयर बाजार के बारे में अधिक जानकारी और अन्य पहलुओं को जानने के लिये Share Market in Hindi विस्तार से पढ़े।

लार्ज कैप कंपनियां
लार्ज कैप कंपनियां

लार्ज कैप कंपनियां किन्हें कहते हैं

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है लार्ज कैप कंपनियां वह हैं जिनका बाजार पूंजीकरण बहुत अधिक है। लार्ज कैप “लार्ज मार्केट कैपिटलाइजेशन” शब्द का संक्षिप्त संस्करण है। अमेरिका में लार्ज कैप कंपनी $ 10 बिलियन से अधिक के बाजार पूंजीकरण मूल्य की कंपनियों को कहते हैं। भारत के संदर्भ में 20,000 करोड़ से अधिक बाजार पूंजीकरण वाली कंपनी को लार्ज कैप कंपनी कहते हैं। बाजार पूंजीकरण की गणना प्रति शेयर मूल्य को कंपनी के बकाया शेयरों की संख्या से गुणा करके की जाती है। किसी भी कंपनी के स्टॉक को आम तौर पर लार्ज कैप, मिड कैप या स्मॉल कैप के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। भारत में कूछ प्रमुख लार्ज कैप कंपनियां हैं आईटीसी, टीसीएस, रिलायंस और एचडीएफसी

पहचान

दुनिया भर के शेयर बाजारों में लार्ज कैप कंपनियों को उनके बैंचमार्क इंडेक्स में शामिल किया जाता है। चूंकि लार्ज कैप स्टॉक किसी भी इक्विटी बाजार के बड़े भाग का प्रतिनिधित्व करते हैं, इसलिए उन्हें अक्सर कोर पोर्टफोलियो निवेश के रूप में देखा जाता है। लार्ज कैप स्टॉक अक्सर निम्न विशेषताओं से पहचाने जाते है।

पारदर्शी

लार्ज कैप कंपनियां आम तौर पर पारदर्शी होती हैं जिससे निवेशकों को उनके बारे में सार्वजनिक जानकारी ढूंढना और उनका विश्लेषण करना आसान हो जाता है। अक्सर इनके नतीजे और बड़े निर्णय समाचारों की सुर्खियां बनते हैं और टीवी, न्यूज पेपर और वेब पोर्टल पर उपलब्ध रहते है।

लाभांश

ये कंपनियां स्थिर और स्थापित होतीं हैं और लाभांश के जरिये आय वितरण को प्राथमिकता देतीं हैं। यह अपने उद्योगों में स्थापित होतीं हैं जिससे वे निरंतर एवं उच्च लाभांश भुगतान करतीं है।


स्थिर और प्रभावशाली

लार्ज कैप स्टॉक आम तौर पर अपने बिजनेस में टॉप पर होतीं हैं और ब्लू चिप कंपनियों की श्रेणी में आतीं हैं। यह कंपनियां वह हैं जो स्थापित हैं और स्थिर राजस्व और कमाई देतीं हैं। वे अपने आकार के कारण बाजार और अर्थव्यवस्था के साथ आगे बढ़तीं हैं। वे बाजार की लीडर होतीं हैं। इन कंपनियों के बारे में मिला कोई भी समाचार आम तौर पर व्यापक बाजार को प्रभावित करता है।

निवेश का मानक

कोई भी निवेशक जब किसी कंपनी में निवेश करता है तो उसके अन्य मानकों जैसे कि ईपीएस और पीई रेश्यो के साथ उसका मार्केट कैप आकार भी देखता है। किसी निवेशक के लिये निवेश करने के मानकों में यह बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है।

हर पोर्टफोलियो के लिये

निवेशक अलग-अलग उद्योगों की कंपनियों में निवेश करके अपने पोर्टफोलियो को अलग-अलग बाजार कैप्स, राजस्व और कमाई के विकास अनुमानों के साथ डाइवर्सिफाइ करना पसंद करते हैं। उनके आकार के कारण बड़े स्टॉक आमतौर पर सुरक्षित माने जाते है। हालांकि वे उभरते मिड कैप और स्मॉल कैप कंपनियों के समान विकास के अवसरों की पेशकश नहीं करते हैं। लेकिन लार्ज कैप कंपनियां बाजार की लीडर होतीं हैं और उनके शेयर मूल्य विशिष्ट बाजार के साथ महत्वपूर्ण रूप से लाभ दे सकते हैं।

आम तौर पर लार्ज कैप वाली कंपनियों को उनकी स्थिरता और लाभांश के कारण निवेश पोर्टफोलियो में दीर्घकालिक निवेश के रूप में उपयोग किया जाता है। वित्तीय सलाहकार छोटे कैप, मिड कैप और लार्ज कैप स्टॉक को शामिल कर निवेश पोर्टफोलियो को विविधता देने का सुझाव देते हैं।


Leave A Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *