Minimum Balance in Hindi

Minimum Balance in Hindi मिनिमम बैलेंस क्या है इसे कैसे गिनते हैं और इसे कैसे बना कर रख सकते हैं। सेविंग एकाउंट में औसत न्यूनतम राशि कैसे बना कर रखें कि आपको शुल्क ना देना पड़े। आपको अपने बचत खाते में एमएबी यानि मिनिमम एवरेज बैलेंस बना कर रखना होता है जिससे कि आपको खाते की सेवाओं का लाभ मिलता रहे अन्यथा संभव है कि आपको इसके लिये शुल्क देना पड़े। मगर क्या हम इसे निकलवा सकते हैं और कैसे इसे बना कर रख सकते हैं इन सब बातों के बारे में जानेंगे विस्तार से आसान हिंदी में। Minimum Balance in Hindi, how it is calculated by bank and learn how you can maintaion Minimum Balance in your bank account.

मिनिमम बैलेंस क्या है
Minimum Balance in Hindi मिनिमम बैलेंस क्या है

औसत न्यूनतम राशि

मिनिमम एवरेज बैलेंस या औसत न्यूनतम राशि वह राशि है जो किसी भी बैंक के ग्राहक को अपने खाते को सुचारू रूप से चलाने के लिये बना कर रखनी होती है। बैंक आपका न्यूनतम औसत बैलेंस ना होने पर आपको शुल्क लगा सकता है। मिनिमम बैलेंस का निर्धारण बैंक खाते के प्रकार पर निर्भर करता है। अलग अलग बैंक में मिनिमम बैलेंस की सीमा अलग अलग हो सकती है। एक ही बैंक में अलग अलग प्रकार के खातों की मिनिमम राशि की सीमा भी अलग अलग हो सकती है। अक्सर बैंक अधिक सुविधा वाले खातों या पेरिओरिटी खातों के लिये अधिक औसत न्यूनतम राशि की मांग करते हैं। शहरी ओर ग्रामीण इलाकों में भी न्यूनतम राशि की सीमा अलग अलग हो सकती हे। कई खातों में मिनिमम राशि रखने की आवश्यक्ता नहीं होती। ऐसे खातों में बैंक कुछ सुविधाओं की कटौती कर सकते है। जनधन खाते में भी न्यूनतम राशि रखने की आवश्यक्ता नहीं होती।

क्या हम इसे निकलवा सकते हैं

यह आपका पैसा है और आप आवश्यकता पड़ने पर इसे निकलवा भी सकते हैं। मगर पूरे महीने के लिये आपको औसत न्यूनतम राशि का बैलेंस बना कर रखना होगा। यानि यदि आपके खाते में आपकी शेष राशि किसी दिन न्यूनतम राशि से नीचे गयी है तो महीने के बाकी दिनेों में इसे न्यूनतम राशि से अधिक रख कर औसत बनाया जा सकता है।

कैसे गिनते हैं

इसे साधारण तरीके से समझते हैं। मान लीजिये आपके खाते के लिये आपको ₹5000 की मिनिमम राशि रखनी है। आप यदि महीने के 15 दिन अपने खाते में जीरो बैंलेंस रखते हैं और बाकी 15 दिन ₹10000 से अधिक का बैलेंस रखते हैं तो आपका औसत बैलेंस ₹5000 से अधिक हो जायेगा।


शुल्क से बचें

कोशिश करें कि खाते की राशि मिनिमम बैलेंस से कम ना होने पाये और केवल आपातकाल में ही इसे प्रयोग करें और इसके बाद जल्द ही इसका औसत ठीक कर लें जिससे कि आप शुल्क देने से बच जायें।

बेहतर तरीका

अपने खाते की समय समय पर जांच करते रहें जिससे कि आपको पता रहे कि आपके खाते में कितना बैलेंस चल रहा है। यदि आपकी कोई EMI लगती है या अन्य कोई नियमित राशि खाते से कटती है तो इस पर नजर रखें औऱ जब भी जरूरत हो अपने खाते में राशि जमा कर अपने खाते के बैलेंस को तंदरुस्त रखें और शु्ल्क आदि से बचे रहें।

This was Minimum Balance in Hindi and how you can maintain it and save charges levied by bank.


Leave A Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *