Share Bazar » शेयर बाजार सीखें » म्यूचुअल फंड

म्यूचुअल फंड के फायदे

म्यूचुअल फंड के फायदे और इसमें क्यों निवेश करना चाहिये। कैसे यह शेयर बाजार में सीधे निवेश करने के मुकाबले ज्यादा फायदेमंद हो सकता है। निवेश के लिये म्यूचुअल फंड बहुत प्रचलन में है। जो लोग शेयर बाजार में सीधे निवेश नहीं कर सकते उनके लिये म्यूचुअल फंड निवेश का आसान तरीका है। यहां आसान हिंदी में समझते है कि म्यूचुअल फंड में निवेश के क्या हैं फायदे और छोटे निवेशकों को क्यों इसमें निवेश करना चाहिये। यहां पढ़ें म्यूचुअल फंड क्या है विस्तार से।



म्यूचुअल फंड के फायदे

म्यूचुअल फंड कई निवेशकों के लिए एक लोकप्रिय और आसानी से समझ में आने वाला निवेश का साधन है। ऐसे निवेशक जिनके पास शेयर मार्केट की जानकारी की कमी है, समय की कमी है या छोटा निवेश करना चाहते हैं ऐसे निवेशकों के लिए म्युचुअल फंड में निवेश करना आसान है और साथ ही वे म्यूचुअल फंड के अन्य फायदे भी प्राप्त कर सकते हैं। यहां हम म्यूचुअल फंड में निवेश के इन फायदों की चर्चा विस्तार से करेंगे:

  • पोर्टफोलियो में डाइवर्सीफिकेशन
  • सैक्टर फंड का लाभ
  • पेशेवर प्रबंधन
  • लागत में कमी
  • छोटा निवेश
  • लिक्विडिटी

पोर्टफोलियो में डाइवर्सीफिकेशन

डाइवर्सीफिकेशन यानि निवेश का विविधीकरण। चाहे कोई छोटा निवेशक हो या बड़ा निवेशक, डाइवर्सीफिकेशन निवेश का पहला और महत्वपूर्ण नियम है। डाइवर्सीफिकेशन में एक पोर्टफोलियो के भीतर विभिन्न प्रकार के परिसंपत्ति वर्गों में निवेश का मिश्रण बनाया जाता है और इसका उपयोग जोखिम को कम करने के लिये किया जाता है। उदाहरण के लिये यदि आप FMCG में निवेश कर रहे हैं तो निवेश का कुछ भाग आईटी उद्योग में भी लगा सकते हैं। इसी प्रकार अलग अलग उद्योग से आप विभिन्न पूंजीकरण वाले स्टॉक खरीद सकते हैं। एक निवेशक को इस सब के लिये समय और अध्ययन की आवश्यकता हो सकती है।


सैक्टर फंड का लाभ

व्यक्तिगत डाइवर्स्ड पोर्टफोलियो बनाने के लिए बड़ी मात्रा में नकदी की आवश्यकता हो सकती है मगर म्यूचुअल फंड खरीदने से बिना बड़े निवेश के डाइवर्सीफिकेशन के तत्काल लाभ प्राप्त किये जा सकते हैं। हालांकि केवल एक म्यूचुअल फंड खरीदने से आपको पर्याप्त डाइवर्सीफिकेशन नहीं मिल सकती है। यह देखना महत्वपूर्ण है कि फंड सेक्टर है या किसी खास उद्योग में निवेश करता है। उदाहरण के लिए केवल एक सेक्टर के म्यूचुअल फंड में निवेश करने से आपका पैसा कई कंपनियों में फैल सकता है लेकिन अगर उस सैक्टर में शेयरों की कीमतें गिरती हैं तो आपके पोर्टफोलियो को नुकसान हो सकता है। जैसे यदि आप बैंकिंग सैक्टर फंड में निवेश करते हैं तो इस प्रकार आप एक साथ कई बैंकों में निवेश कर विविधिता तो प्राप्त कर लेते हैं मगर यदि बैंकिंग सैक्टर में शेयरों के दाम गिरे तो फंड को नुकसान भी हो सकता है।

इसलिये यह जरूरी है कि जब आप म्यूचुअल फंड में निवेश करें तो अलग अलग सैक्टर और कैपिटल आकार में निवेश करने वाले म्यूचुअल फंड चुनें। यहां आप इक्विटी फंडों के प्रकार जान सकते हैं।

पेशेवर प्रबंधन

म्यूचुअल फंड का प्रबंध पेशेवर प्रबंधन यानी प्रोफेशनल मैनेजमेंट के द्वारा किया जाता है। आपका फंड मेनेजर रिसर्च करके निवेश के लिये शेयर चुनता है। आपको रिसर्च करने की आवश्यक्ता नहीं है। यदि आप शेयर बाजार को अच्छे से नहीं समझते तो भी आप म्यूचुअल फंड के जरिये शेयर बाजार में निवेश का लाभ उठा सकते हैं।

लागत में कमी

म्यूचुअल फंड निवेशकों के लिए ट्रांजेक्शन लागत को कम कर देते हैं। क्योंकि उनकी खरीद और बिक्री की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। जब आप म्यूचुअल फंड खरीदते हैं तो आप अधिक ब्रोक्रेज शुल्क के बिना विविधता लाने में सक्षम होते हैं। सोचिए अगर आपको डायवर्सिफिकेशन के लिए ज़रूरी 10-20 स्टॉक खरीदना पड़ें। अकेले ब्रोक्रेज ही आपके निवेश का एक अच्छा हिस्सा खा जाएगा। हर बार जब आप अपने पोर्टफोलियो में बदलाव करना चाहते हैं तो अतिरिक्त शुल्क देने पड़ सकते हैं म्यूचुअल फंड्स से आप कम पैसे में ज्यादा बड़े पैमाने पर लेन-देन कर सकते हैं।

छोटा निवेश

यदि आप रिलांयस कंपनी का शेयर खरीदना चाहते हैं तो आपको कम से कम एक शेयर खरीदना पड़ेगा जिसकी कीमत आजकल 1300 ₹ के आसपास है। मगर ऐसे म्यूचुअल फंड में आसानी से निवेश कर सकते हैं जिसमें 500₹ से निवेश की शुरुआत की जा सकती है। म्यूचुअल फंड में SIP के द्वारा निवेश के द्वारा आप छोटी छोटी रकम जोड़ कर एक बड़ी रकम बना सकते हैं। यहां पढ़िये कैसे SIP द्वारा निवेश करके एक करोड़ रुपये बनाये जा सकते हैं। तो शेयर बाजार में बड़ा निवेश करने के लिये इंतजार करने से बेहतर है कि आप म्यूचुअल फंड में छोटा छोटा निवेश करते रहें।

लिक्विडिटी

म्यूचुअल फंड को बेचना बहुत आसान है। आप इसे ऑनलाइन बेच सकते हैं। दिन के आखिर में जब NAV की गनणा की जाती है उस NAV पर आप अपने यूनिट बेच सकते हैं।

अपने रिस्क को भी समझें

जैसा की हर निवेश में होता है, म्यूचुअल फंड खरीदने में जोखिम शामिल होता है। निवेश का यह माध्यम बाजार में उतार-चढ़ाव से प्राभावित होते हैं और कभी-कभी बाजार से भी नीचे रिटर्न प्रदान करते हैं।


यहां हमने समझा कि म्यूचुअल फंड के क्या फायदे हैं और कैसे यह शेयर बाजार में सीधे निवेश करने के मुकाबले ज्यादा फायदेमंद हो सकता है।

म्यूचुअल फंड पर हमारे यह पोस्ट अवश्य पढ़ें