म्यूचूअल फंड में निवेश में रिस्क कितना होता है

म्यूचूअल फंड में निवेश में रिस्क कितना होता है और इसे कैसे कम किया जा सकता है। शेयर बाज़ार में सीधे निवेश ना करके अधिकतर निवेशक म्यूचूअल फंड में निवेश करते हैं जिससे कि उनका रिस्क निवेश में कम हो जाए मगर फिर भी म्यूचूअल फंड के निवेश में जोखिम रहता ही है। आज समझते हैं कि म्यूचूअल फंड में निवेश में रिस्क कितना होता है और इसे हम किस प्रकार कम कर सकते हैं।

म्यूचूअल फंड में निवेश में रिस्क कितना होता है
म्यूचूअल फंड में निवेश में रिस्क कितना होता है

बाजार के जोखिम के अधीन

आपका फ़ायनैन्शल एडवाइज़र आपसे कहता है कि म्यूचुअल फंड में निवेश से आपका बाज़ार में रिस्क कम हो जाएगा मगर हम टीवी पर विज्ञापनों में हमेशा सुनते हैं म्यूचुअल फंड में निवेश बाजार के जोखिम के अधीन हैं। वास्तव में यह दोनों ही बातें सच हैं। आपको विस्तार से बताते हैं कि म्यूचूअल फंड में निवेश में रिस्क कितना होता है और हम किस तरह इसे कम कर सकते हैं।

जोखिम कम करने का वाहन

जैसा कि हम जानते हैं कि म्यूचुअल फंड विभिन्न प्रकार की योजनाएं प्रदान करते हैं, इसे निवेश को विविधीकरण या डाइवर्स करने का वाहन भी माना जाता है जिसका अर्थ है कि विविधीकरण की अपनी विशेषता के कारण यह काफी हद तक आपके जोखिम को कम कर देता है। लेकिन याद रखें कि यह आपके जोखिम को पूरी तरह खत्म नहीं करता है इसका मतलब है कि यदि आप म्यूचुअल फंड के माध्यम से इक्विटी बाजार में निवेश करने का निर्णय लेते हैं तो उन बाजारों से जुड़े जोखिम अभी भी आपके निवेश के साथ रहते हैं।

प्रबंधन विशेषज्ञों के हाथ में

हालाँकि म्यूचुअल फंड का प्रबंधन विशेषज्ञों के हाथ में रहता है और वे आपके निवेश के जोखिम को कम कर देते हैं। म्यूचुअल फंड प्रबंधकों का काम है कि बाज़ार में मिल रहे रिटर्न से आपको बेहतर रिटर्न दिलवाए और यदि बाज़ार नीचे जा रहे हैं तो उसका पोर्टफोलिओ बाज़ार के जितना नीचे ना जाए, फिर भी वह बाज़ार के रिस्क को पूरी तरह ख़त्म नहीं कर सकता।

जोखिम को कैसे कम करें

अब अगर हम बाज़ार में मिलने वाले ऊँचे रिटर्न भी प्राप्त करना चाहते हैं और रिस्क से भी बचना चाहते हैं तो यहाँ हम आपको वह तरीक़े बताते हैं जिनसे आप इस रिस्क को बहुत कम कर सकते हैं।

डाइवर्सिफिकेशन यानि विविधीकरण

आपने अंग्रेज़ी की यह कहावत सुनी होगी कि कोई भी निवेशक अपने सारे अंडे एक ही टोकरी में नहीं रखता। यानी अगर आपने अपने सभी अंडे एक ही टोकरी में रख दिए और उस टोकरी को झटका लगा तो सभी अंडे ख़तरे में आ सकते हैं। इससे बचने के लिए आप अपने अंडों को बाँट कर अलग अलग टोकरियों में रख दें जिससे यदि एक टोकरी को झटका लगे तो बाक़ी टोकरियों में रखे अंडे बचे रहें। इसी को डाइवर्सिफिकेशन यानि विविधीकरण कहते हैं।


निवेश में डाइवर्सिफिकेशन

यदि आप बाजार में निवेश कर रहे हैं तो बहुत तरीक़ों से डाइवर्सिफिकेशन कर सकते हैं। एक ही कम्पनी में सारा निवेश ना करें। एक ही उद्योग की कम्पनियों में सारा निवेश ना करें। और ज़्यादा डाइवर्सिफिकेशन करने के लिए अलग अलग मार्केट कैप वाली कम्पनियों में निवेश करें। इसी प्रकार जब आप म्यूचुअल फंड में निवेश करें तो अलग अलग स्कीम और अलग अलग मार्केट कैप में निवेश करने वाले म्यूचुअल फंड में निवेश करें।

SIP द्वारा निवेश

SIP द्वारा निवेश से आप अपने निवेश के रिस्क को बहुत हद तक कम कर सकते हैं। कल्पना कीजिए किसी निवेशक ने एक साथ ₹50000 बाज़ार में निवेश कर दिए। इसके बाद एक साल तक बाज़ार में मंदा रहा और बाज़ार 10% गिर गए। अब उसका निवेरश ₹45000 ही रह गया। यही निवेश यदि उसने ₹5000 मासिक SIP में करवाया होता तो उसे गिरती क़ीमतों का भी लाभ मिलता और उसका निवेश ₹5000 से नहीं घटता मगर इससे बहुत कम घटता।

लम्बी अवधि का निवेश

लम्बी अवधि का निवेश भी शेयर बाज़ार में निवेश के ख़तरों को बहुत हद तक कम कर देता है। बाज़ार में लम्बे समय तक का निवेश करें और अच्छे रिटर्न की उम्मीद करें।

तो यहाँ हमने देखा कि म्यूचूअल फंड में निवेश में रिस्क कितना होता है और डाइवर्सिफिकेशन, SIP और लम्बी अवधि तक निवेशित रह कर उसे हम कैसे कम कर सकते हैं।


Leave A Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *