Share Bazar » शेयर बाजार सीखें » म्यूचुअल फंड » SIP in Hindi

SIP in Hindi

SIP in Hindi – SIP क्या है और इसमें निवेश के क्या फायदे हैं यहाँ आपको समझा रहे हैं हिंदी में। कैसे यह कम जोखिम के साथ अनुशासित निवेश का तरीका है और इसके क्या फायदे हैं। SIP की जानकारी कि कैसे अनुशासन के साथ थोड़ा थोड़ा नियमित जमा कर आप एक बड़ी रकम जोड़ सकते हैं। SIP में शेयरों या म्युचुअल फंड के अलावा कहां निवेश कर सकते हैं।


SIP in Hindi
SIP in Hindi

SIP in Hindi
आपने प्यासे कौवे की कहानी तो सुनी होगी. जिसके घड़े में पानी कम था और उसने छोटे छोटे पत्थर डाल कर घड़ा भर दिया और पानी पी लिया.

सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान

कम रिस्क में निवेश का एक आसान तरीका जिसमें अपने आप हर महीने आप एक निश्चित रकम जोड़ कर एक बड़े उद्देश्य के लिए बचत कर के एक मोटी रकम प्राप्त कर सकते हैं. आप चाहे नौकरी पेशा व्यक्ति हों या गृहणी सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेश करके और हर महीने थोड़ा थोड़ा पैसा बचा कर अपने सपनों को पूरा करने लिए एक बड़ी रकम जमा कर सकते हैं. यहां पढ़ें SIP में निवेश से एक करोड़ कैसे बनायें हमारी साइट पर।  

कम जोखिम के साथ अनुशासित निवेश

जिन्हें शेयर बाजार Share Market के विषय में अधिक जानकारी नहीं है उनके लिए SIP के द्वारा निवेश करना ही बेहतर तरीका है जिससे निवेशक का जोखिम कम हो जाता है. SIP  निवेश एवं बचत की ऐसी पद्धति है जिसके अंतर्गत कोई भी निवेशक एक निश्चित अंतराल में एक निश्चित राशि अपने निर्धारित शेयर अथवा म्यूचुअल फण्ड में निवेश करता रहता है. Gold यानि सोने जैसी कमोडिटी में भी SIP द्वारा निवेश किया जाता है. SIP द्वारा निवेश करने से अनुशासित तरीके से निवेश करना आसान हो जाता है तथा निवेश का जोखिम भी कम हो जाता है. पढ़िए किस प्रकार आप SIP में निवेश करके एक करोड़ रुपये बना सकते हैं.


SIP in Hindi

SIP यानि Systematic Investment Plan हिंदी में कहेंगे व्यवस्थित निवेश योजना. मगर मैं इसे क्रमबद्ध निवेश योजना कहना चाहूँगा. SIP जिसे सिप भी कहा जाता है में एक बराबर समय के अंतराल में, एक बराबर राशि एक ही मद में निवेश की जाती है. मान लीजिये की एक निवेशक के पास पचास हजार रुपये है निवेश करने के लिए तो वह इन्हें एक ही दिन निवेश ना करके SIP में पांच हजार प्रति माह के हिसाब से दस माह तक निवेश करते हैं. यहां पढ़ें SIP vs RD in Hindi हमारी साइट पर।

सैलरी पेशा लोगों के लिये आसान

कोई भी निवेशक SIP के द्वारा शेयर बाजार,  म्यूचुअल फण्ड अथवा Gold ETF में निवेश कर सकता हैं. निवेश का अंतराल प्रति दिन, प्रति सप्ताह अथवा प्रति माह रखा जा सकता है. सैलरी पेशा लोगों के लिये यह निवेश का एक आसान उपाय है. हर माह अपनी सैलरी से कुछ बचत करके नियमित और अनुशासित ढंग से बड़ा निवेश किया जा सकता है. किसी भी म्युचुअल फण्ड में एडवांस चैक दे कर अथवा ऑनलाइन निर्देश दे कर सिप शुरू किया जा सकता है. SIP रु 500 प्रति माह जैसी छोटी राशि से भी करवाया जा सकता है.

SIP में निवेश के फायदे

SIP निवेश का एक बेहतरीन तरिका है. यहाँ हम सिप निवेश के फायदे बता रहे हैं.

छोटा निवेश

छोटी राशि निवेश के लिए निकालना आसान होता है. लम्बे समय तक छोटी छोटी राशि का निवेश आपको बड़े रिटर्न दे सकता है. सैलेरी पेशा लोग अपनी महीने के बजट से छोटी छोटी निवेश इसके जरिये कर सकते हैं। गृहणियां या छात्र भी कुछ राशि हर माह बचा कर इसमें निवेश कर सकते हैं।


रिस्क में कमी

SIP का सबसे बड़ा फायदा यही है. मान लीजिये किसी निवेशक के पास पचास हजार रुपये शेयर मार्किट में निवेश के लिए हैं. उसने इन्हें बाजार में एक साथ लगा दिया. अगले दिन बाजार ऊपर जाएगा अथवा नीचे कोई नहीं जानता. यही निवेश यदि थोड़े थोड़े अंतराल में बाँट कर किया जाए तो रिस्क में कमी आ जाती है.

निवेश में आसानी

सिप में निवेश ऑनलाइन निर्देश दे कर किया जा सकता है. निश्चित तारीख को म्यूचुअल फण्ड आपके खाते से निशचित राशि लेकर आपके चुने हुए प्लान में निवेश कर देता है. इस तरह से हर बार निवेश का झंझट नहीं बचता है और स्वाचालित तरीके से निवेश हो जाता है। ना याद रखने की अवश्यकता और ना कहीं जाने की जरूरत। यहां पढ़ें SIP में निवेश कैसे करें

अनुशासन के साथ निवेश

SIP in Hindi में आपको एक किस्सा सुनाते हैं जिससे आपको एसआईपी बेहतर तरीके से समझ आयेगा। रमेश और राजेश दो दोस्त हैं. दोनों ने अपनी अपनी पत्नियों को वादा किया कि अगली शादी की सालगिरह पर सोने का हार ले कर देंगे. रमेश पूरे साल इंतज़ार करते रहे कि जब सोना सस्ता होगा तब लेंगे. कई बार सोना सस्ता भी हुआ मगर रमेश को लगाता कि सोना अभी और सस्ता होगा. रमेश हार नहीं ले पाए और साल गिरह पर जो कीमत थी उसी पर हार लेनी पड़ा.

राजेश ने पहले महीने से ही गोल्ड ETF में SIP निवेश शुरू कर दिया. जब जब सोने की कीमत कम हुई या बढ़ी राजेश का निवेश हो जाता था. आप अंदाज लगा सकते हैं की हार की कीमत किसने ज्यादा ज्यादा दी होगी. अंत में आपने प्यासे कौवे की कहानी तो सुनी होगी. जिसके घड़े में पानी कम था और उसने छोटे छोटे पत्थर डाल कर घड़ा भर दिया और पानी पी लिया. SIP मुख्य रूप से शेयर मार्किट में छोटी छोटी राशि को नियमित रूप से अनुशाशन के साथ म्यूचुअल फण्ड द्वारा निवेश करने का आसान तरिका है.

SIP बंद करवाना

SIP in Hindi में आगे बताते हैं कि एसआईपी में अपना लक्ष प्राप्त कर लेने के बाद उसे बंद कैसे करवायें। आप अपनी एएमसी में इसके लिये निवेदन कर सकते हैं या ऑनलाईन अपना SIP बंद करवा सकते हैं। विस्तार से जानने ले लिये SIP बंद कैसे करवाएं पढ़ सकते हैं।

गिरते बाजार में SIP

आपके SIP की अवधी में ऐसे समय भी आयेंगे जब बाजार में तेजी रहेगी और आपको अच्छे रिटर्न मिलेंगे साथ ही ऐसे दौर भी आयेंगे जब बाजार गिरेगा और आपका निवेश कुछ समय के लिये घाटे में जा सकता है। ऐसे समय में विचलित होने के बजाये धैर्य बनाये रखने की आवश्यक्ता है। यहां पढ़ें गिरते बाजार में SIP चालू रखने के फ़ायदे क्या हैं।

आशा है कि SIP in Hindi पढ़ने के बाद आपको समझ आया होगा कि सिप क्या है और कैसे काम करता है.

जरूर पढ़ें म्यूचुअल फंड पर हमारे यह लेख

25 thoughts on “SIP in Hindi”

  1. Your Comment Here … सर
    में sip के जरिया निवेश करना चाहता हु….मुझे बाजार के बारे में कोई जानकारी नहीं हे….बताए
    मुझे ऑनलाइन निवेश ही पसंद हे खाता कैसे खुले

  2. For open a account for share you have to visit your nearest bank or share broker house . After that you have to open three type of account
    1. Saving A/C
    2.trading A/C
    3.Demait A/C
    and now you are ready to trade share through LOGIN your USER NAME/ USER ID
    with PASSWORD .

Leave a Comment