Share Bazar » शेयर बाजार सीखें » Investment » SIP के फायदे

SIP के फायदे

SIP के फायदे, स्वरूप और प्रक्रिया। SIP द्वारा निवेश करने के क्या फायदे हैं और यह कैसे काम करता है यह समझेंगे आासान हिंदी में विस्तार से। म्युचुअल फंड में निवेश का ऐसा तरीका जिससे आसान से नियमित निवेश द्वारा एक बड़ी रकम जोड़ी जा सकती है जिसमें निवेश का रिस्क कम हो जाता है। SIP पर विस्तार से जानने के लिये पढ़ें SIP in Hindi हमारी साइट पर।


स्वरूप

एसआईपी निवेश का ऐसा तरीका है जिसके द्वारा आमतौर पर म्यूचुअल फंड में निवेश किया जाता है। SIP का फुल फॉर्म है Systematic Investment Plan यानि व्यवस्थित निवेश योजना। ऐसी निवेश योजना जो कि एक व्यवस्था से चलाई जाये। क्योंकि आप प्लान के शुरु में यह निर्धारित कर लेते हैं कि आपको कितने समय के अंतराल में निवेश करते रहना है और कितनी राशि निवेश करनी है इससे आपका निवेश व्यवस्थित हो जाता है।

प्रक्रिया

इसके लिये आप KYC भर कर ऑनलाइन या ऑफलाइन अपना SIP शुरू करवा सकते हैं। SIP में निवेश की पूरी प्रक्रिया आप SIP में निवेश कैसे करें में हमारी साइट पर पढ़ सकते हैं। यहां आप निर्धारित करते हैं कि कौन से म्यूचुअल फंड योजना में आप निवेश करने चाहते हैं और कितनी राशि हर माह जमा करवाना चाहेंगे।

संभावनायें

एसआईपी में निवेश के द्वारा छोटी छोटी राशि जमा करके बड़ी रकम जमा की जा सकती है। कंपाउंड की शक्ति और लंबी अवधि का निवेश आपकी जमा को असाधारण उंचाई तक पहुंचा सकते हैं। यहां तक कि आप छोटी छोटी निवेश नियमित रूप से करें तो एक करोड़ रुपये भी आसानी से जोड़े जा सकते हैं। यहां पढ़ें SIP में निवेश से एक करोड़ कैसे बनायें हमारी साइट पर।


SIP के फायदे

एसआईपी निवेश की ऐसी आसान प्रक्रिया है जिसके द्वारा कम रिस्क में छोटे छोटे नियमित निवेश कर एक बड़ी रकम जोड़ी जा सकती है। आईये विस्तार से जानते हैं SIP द्वारा निवेश के फायदे:

निवेश के लिये कम राशि

SIP में निवेश के लिये बेहद कम राशि चाहिये होती है। आप ₹500 प्रति माह से भी शुरुआत कर सकते हैं। इस प्रकार छोटा निवेश जेब पर भारी नहीं पड़ता है और लंबी अवधि में यह बड़ी रकम बन सकती है।

कम रिस्क

शेयर मार्किट में निवेश करने में हमेशा रिस्क जुड़ा रहता है। SIP द्वारा इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है। एक नियमित अंतराल में छोटा निवेश, निवेशकों के रिस्क को किसी हद तक कम कर देता है। निवेश से पहले म्यूचुअल फंड के निवेश में रिस्क को जान लें।

आसानी

SIP में निवेश आसान है, बस एक बार आप बैंक का मेंडेट एसेट मेनेजमेंट कंपनी को दे देते हैं उसके बाद प्रति माह अपने आप निर्धारित राशि आपके खाते से काट कर आपके द्वारा चुने गये प्लान में निवेशित कर दी जाती है।

अनुशासित निवेश

एक बार बैंक मेंडेट देने के बाद व्यावस्थित तरीके से अपका निवेश शुरु हो जाता है। नियमित निवेश की आदत हो जाने से निवेश में अपने आप अनुशासन अा जाता है और आप लंबी अवधि तक निवेश करने में सक्षम हो जाते हैं।

छोटे निवेशकों के लिये आदर्श

ऐसे लोग जो एक साथ बड़ी राशि निवेश नहीं कर सकते वे Systematic Investment Plan का चुनाव करते हैं। इसमें मासिक आय पाने वाले, दुकानदार, गृहणियां और छात्र भी निवेश कर सकते हैं। क्योकि इसमें ₹500 प्रति माह तक भी निवेश कर सकते हैं तो जिनकी आय नियमित ना हो वे भी नियमित बचत कर सकते हैं।

लचीलापन

SIP को कभी भी बंद करवा सकते हैं और इसे बंद करवाने की कोई पेनल्टी भी नहीं लगती है। आप एक छोटे समय के लिये इसे रुकवा भी सकते हैं। अपने लचीलेपन की वजह से लोगों को SIP में निवेश करना भा रहा है। यहां विस्तार से पढ़ें SIP को बंद कैसे करवायें हमारी साइट पर।

कोई चार्ज नहीं

SIP शुरू करने के लिये कोई अलग से चार्ज नहीं देना पड़ता है। फिर भी आपको इसके सभी लाभ मिलते हैं। बिना किसी अतिरिक्त खर्च के आप Systematic Investment Plan के सभी लाभ प्राप्त कर सकते हैं.

शुरुआत के लिये आदर्श

ऐसे लोगों के लिये जो पहली बार निवेश में शुरुआत करना चाहते हैं उनके लिये निवेश करने का यह आदर्श जरिया है। यह एक साथ निवेश कर बाजार में अचानक होने वाले रिस्क से निवेशकों को बचाता है।

यहां हमने अपको SIP के फायदे विस्तार से बताये हैं जिन्हें जानकर आप निवेश के निर्णय लेने के फैसले आसानी से ले सकते हैं।

जरूर पढ़ें निवेश पर हमारे यह पोस्ट

Leave a Comment