कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ

कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ और अपने पैसे को ही कमाई पर लगा दें। कैसे कम जानकारी और कम मेहनत से आप पक्के तौर पर अपने पैसे को कमाई पर लगा सकते हैं जिससे रिस्क भी कम हो और पैसे बढ़ने का पूरा चांस हो। आपको कुछ ऐसे तरीक़े बताते हैं जिससे आप शेयर बाज़ार में कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ। ना आपको ज़्यादा समय देना पड़े और ना ही ज़्यादा जानकारी रखने की ज़रूरत पड़े।

कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ
कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ

आपका पैसा ही आपके लिए पैसा बनाएगा

मेरे ब्लॉग पर अधिकतर ऐसे लोग जानकारी लेने के लिए आते हैं जिन्हें शेयर बाजार की ज़्यादा जानकरी नहीं होती है और वे कुछ कच्ची पक्की जानकरी तो ले लेते हैं पर वह आत्मविश्वास नहीं जगा पाते जिससे कि वे बाजार में निवेश कर सकें। आज कुछ ऐसी स्ट्रेटजी की बात करते हैं जिसमें आपका पैसा ही आपके लिए पैसा बनाएगा। तो आज समझने की कोशिश करते हैं कि कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ।

अल्पकालिक दृष्टिकोण का त्याग करें

कई निवेशक अल्पकालिक दृष्टिकोण के साथ शेयर खरीदते हैं और घुमावदार रणनीति का पालन करते हैं। यानी एक शेयर ख़रीदा तो दूसरा बेचा। कुछ दिन बाद फिर पहला बेच कर तीसरा ख़रीद लिया। निवेशक के रूप में यह सबसे ख़तरनाक गलती है जो कि लोग अक्सर करते हैं। शेयर बाजार में जानकारी  से भी अधिक महत्वपूर्ण है कि आपका दृष्टिकोण आपके निवेश के प्रति कैसा है।

कम मेहनत से ज़्यादा कमाएँ

अक्सर आपने लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि अमीर लोगों का पैसा ही उनके लिए कमाई करता है। इसका मतलब क्या है और यह कैसे काम करता है? यदि आप एक दुकान चलते हैं तो उसकी कमाई को जोड़ कर एक और दुकान बनाइए और दूसरी दुकान को किराए पर दे दीजिए या किसी को सैलरी पर रखिए और दूसरी दुकान उसे चलाने के लिए दे दीजिए। इस प्रकार दूसरी दुकान में लगाया पैसा आपके के लिए कमाई करेगा। अगला सवाल यह है कि शेयर मार्केट में निवेश करते समय आप इस मॉडल को कैसे दोहरा सकते हैं? यहाँ आपको कुछ सिंपल ट्रिक्स बताते हैं जिससे कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ और आपके बिना आपके  पैसे बढ़ते रहें।

व्यवस्थित तरीका अपनाएँ Systematic approach

सब से पहले निवेश की एक व्यवस्थित विधि को अपनाएँ। शेयर  बाजार में शुरुआत करने के लिए SIP में निवेश की विधि को अपनाएँ। इस तरीक़े से एक फ़िक्सड राशि आपके बैंक खाते से निवेश के लिए हर महीने जमा हो जाती है। इससे आप बाजार के उतार चढ़ाव की चिंता और परेशानियों से मुक्त हो जाते हैं। इससे आपका निवेश निरंतर होता रहता है और आप अनुशासित तरीक़े से निवेश करते हैं। यहाँ आपको बस पहली बार SIP की शुरुआत करनी होती है, उसके बाद हर महीने सारा काम ऑटमैटिक होता है। आप शेयर मार्केट के अलावा बैंक RD या पोस्ट ऑफ़िस RD का तरीक़ा भी अपना सकते हैं।


कंपाउंडिंग की शक्ति Power of compounding

कई निवेशक अल्पकाल के दृष्टिकोण के साथ ख़रीदो और बेचो की रणनीति का पालन करते हैं। एक निवेशक के तौर पर यह बहुत ख़तरनाक हो सकता है। इसके बजाय, लंबे समय तक मजबूत व्यवसाय और जानकार मैनज्मेंट वाली कम्पनी के स्टॉक में निवेश करके ‘कंपाउंडिंग की शक्ति’ का पूरा लाभ ले सकते है। कंपाउंडिंग की शक्ति समय के साथ आपके पैसे को कई गुणा बढ़ा सकती है और धन इकट्ठा करने में महत्वपूर्ण तरीक़े से आपकी मदद कर सकती है। ऐसे कई जाने माने कम्पनियों के शेयर हैं जो पिछले पाँच वर्षों में पाँच से दस गुना तक बढ़ गए हैं। ऐसे कई शेयर है जो कि ऐसी रिटर्न दे सकते हैं जिनकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते। बस एक शर्त है कि आप लम्बे समय तक उनमें निवेश करें और उसे बढ़ने का पूरा मौक़ा दें।

पैसिव इंकम के अन्य रास्ते भी देखें Passive Income

पैसिव इंकम यानी कमाई के ऐसे ज़रिए जहाँ आप निष्क्रिय रहते हैं और आपका निवेश बढ़ता रहे और आप कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ। शेयर मार्केट के अलावा भी आप पैसिव इंकम के अन्य साधन भी बना सकते हैं। पैसिव इंकम आपको बिना चिंता के जीवन जीने का मौक़ा देती है।

सभी लोन चुकाएँ

भले ही यह आपको पैसे कमाने में सीधे मदद नहीं करता है मगर यह आपके खर्चों को कम करेगा और आपकी जेब में हर महीने के अंत में आपको अधिक पैसा बचाने में मदद करेगा।

जब आप योजना बनाते हैं कि कम मेहनत से ज़्यादा कैसे कमाएँ तो शुरू करने के लिए आप अपने बारे में सोचें कि आप क्या काम बेहतर तरीक़े से कर सकते हैं। अपने लक्षयों को समझें। भले ही उपरोक्त उल्लिखित विचार शुरू करने में आपको कुछ पैसे की आवश्यकता होगी। मगर यह निश्चित रूप से आपको लंबे समय तक अपने पैसे को कई गुणा करने में मदद करेगा।