EBITDA in Hindi एबिटडा क्या होता है

EBITDA in Hindi एबिटडा क्या होता है इसका फुल फॉर्म क्या है और इसका क्या महत्व है। EBITDA से कैसे कंपनी कि वास्तविक आर्थिक स्थिती का पता चलता है और कैसे यह कंपनी के शेयर में निवेश करने और निर्णय लेने में सहायक हो सकता है। कैसे EBITDA से कंपनी की वित्तीय जानकारी और अधिक स्पष्ट हो जाती है। या ऐसा तो नहीं है कि इसकी जानकारी दे कर कंपनी की वास्तविक आय को बढ़ा चढ़ा कर पेश किया जाता है। यह सब और इस विषय पर अन्य जानकारियां समझेंगे आसान हिंदी में यहां पर। यहां पढ़ें कैसे समझें तिमाही नतीजे हमारी साइट पर।

EBITDA in Hindi
EBITDA in Hindi

EBITDA in Hindi

EBITDA फुल फॉर्म है Earnings before interest, taxes, depreciation and amortisation. तो एबिटडा का मतलब हुआ ब्याज, कर, विमूल्यन और लोन देने से पहले की आय। एबिटडा भी कंपनी की वित्तीय परिस्थिती जानने का उपाय है जिसे शुद्ध आय के स्थान पर प्रयोग किया जाता है।

कैसे गिनते हैं

इसे शुद्ध आय में कंपनी द्वारा दिया गया ब्याज, कर, संपत्तियों पर लगाया गया मूल्यह्रास और चुकाए गये कर्ज की राशि को जोड़ कर निकाला जाता है। कंपनियों का तर्क हो सकता है कि EBITDA कंपनी की वास्तविक आय जानने का बेहतर उपाय है। इसका उपयोग एक ही उद्योग में या अलग अलग उद्योगोण की कंपनियों की तुलना करने के लिये किया जा सकता है। EBITDA निकालने का फॉर्मुला है:

एबिटडा = शुद्ध आय + ब्याज +कर + मूल्यह्रास + चुकाया गया ऋण

वास्तविकता

कंपनियां यह तर्क दे सकतीं हैं कि हमें आधिक कर्ज के कारण अधिक ब्याज देना होता है औऱ उस कर्ज को चुकाना भी होता है इसलिये जब दूसरी ऐसी कंपनियों से हमारी तुलना की जाये जिन पर हमारे से कम कर्ज है तो वह तुलना हमारी EBITDA के आधार पर की जाये। मगर सच्चाई तो यही है कि यदि आपने लोन लिया है तो उसके ब्याज का अतिरिक्त खर्च भी आपको ही वहन करना पड़ेगा।


उपयोगी

कई बार अलग अलग कंपनियों पर लगने वाले टैक्स का रेट अलग अलग हो सकता है। दो कंपनियों का पूंजीगत ढांचा भी अलग अलग हो सकता है। EBITDA की तुलना से निवेशक को यह पता लगाने में आसानी हो जायेगी कि उत्पादों या सेवाओं की बिक्री की तुलना में कंपनी कितनी तेजी से विकास कर रही है। वास्तव में यह कंपनी द्वारा किये गये पूंजीगत व्यय के असर को कम कर देता है।

स्वयं निर्णय करें

EBITDA की तुलना करना सही है या नहीं यह इस बात पर निर्भर करता है कि दो कंपनियों के आकार में कितना अंतर है, उनकी पूंजीगत संरचना में कितना अंतर है और कंपनी जिस उद्योग में है उस उद्योग में पूंजीगत निवेश की तुलनात्मक रूप से कितनी आवश्यकता है। तो आपको EBITDA की तुलना करनी चाहिये कि नहीं इसके लिये जरूरी है कि आप इस के मतलब को समझें और यह भी समझें कि जिस कंपनी को आप निवेश के रूप में चुन रहे हैं उस कंपनी की पूंजीगत संरचना को देखते हुए यह कितना महत्वपूर्ण है।

EBITDA in Hindi एबिटडा क्या होता है में आज हमने थोड़े तकनीकि रूप से कठिन विषय को चुना मगर फिर भी आशा करते हैं कि हम EBITDA के महत्व और उपयोग को आसान भाषा में समझा पाने में कुछ सफल हुए होंगे।


Leave A Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *