शेयर कैसे खरीदें

शेयर कैसे खरीदें क्या है प्रक्रिया शेयर खरीदने की। शेयर खरीदने के लिये हमारे पास क्या क्या होना चाहिये यह सब समझते हैं। अब जब आपको पता चल गया कि शेयर मार्केट क्या है और शेयर क्या हैं और आप ने शेयर बाजार से जुड़े रिस्क को भी समझ लिया है तो जानते हैं शेयर कैसे खरीदें और बेचें आसान हिंदी में। सात ही समझते हैं शेयर खरीदने और बेचने की सारी प्रक्रिया। शेयर बाजार के बारे में अधिक जानकारी और अन्य पहलुओं को जानने के लिये Share Market in Hindi विस्तार से पढ़ें।

शेयर कैसे खरीदें
शेयर कैसे खरीदें

पहला कदम

जब कोई व्यक्ति किसी कंपनी के शेयर खरीदता है तो उसे शेयर होल्डर के अधिकार जैसे कि लाभांश प्राप्त करने और कंपनी के अंश-स्वामित्व का अधिकार मिलते हैं। शेयर खरीदने के लिए पहला कदम एक ट्रेडिंग एकाउंट और डीमैट एकाउंट खोलना होता है। पेमेंट लेने और देने के लिए ये एकाउंट खाता धारक के बैंक बचत खातों से जुड़े होते हैं। ब्रोकरेज फर्मों के माध्यम से डीमैट और ट्रेडिंग खाते एनएसडीएल और सीडीएसएलएनएसई द्वारा प्रदान किए जाते हैं। इन्हें डिपॉजिटरीज कहते हैं।

ब्रोकरेज फर्म

इन खातों को खोलने के लिए किसी भी ब्रोकरेज फर्म से संपर्क किया जा सकता है। विभिन्न ब्रोकरेज फर्म हैं और प्रत्येक की अपनी अलग अलग ब्रोकरेज योजनाएं हैं। इन योजनाओं कई प्रकार के शुल्क लगते हैं जो आम तौर पर 0.01 प्रतिशत से 0.05 प्रतिशत तक होते हैं। कुछ ब्रोकरेज फ्लैट दरों पर चार्ज करते हैं। ब्रोकर्स को बुद्धिमानी से और अत्यधिक देखभाल के साथ चुना जाना चाहिये। कई बैंक थ्री इन वन एकाउंट खोलते हैं जिसके अंतर्गत सेविंग एकाउंट, ट्रेडिंग एकाउंट और डीमैट एकाउंट एक साथ खोले जाते हैं।

ट्रेडिंग एकाउंट

आपके ट्रेडिंग एकाउंट के द्वारा आप शेयर खरीदने के लिये आप ऑर्डर दे सकते हैं। ऑर्डर देने से पहले आपके बैंक खाते में उतनी राशी होना आवश्यक है जितने के आप शेयर खरीद रहे है। यद रखें कि शेयर खरीदने के लिये न्यूनतम राशि कुछ भी हो सकती है। आप यह ऑर्डर ऑनलाइन या ब्रोकर के ट्रेडिँग प्लेटफॉर्म पर कर सकते हैं। आप फोन पर भी ब्रोकर फर्म को ऑर्डर दे सकते हैं।

शेयर खारीदना

आप अपना ऑर्डर दो तरह से दे सकते हैं मार्केट रेट या लिमिटेड रेट। मार्केट रेट का मतलब है जिस किसी रेट पर शेयर बाजार में ट्रेड कर रहा है उसी रेट पर खरीद लिया जाये। लिमिटेड रेट में आप सीमा बता सकते हैं जिस से आधिक रेट होने पर शेयर नहीं खरीदना है।


डीमैट एकाउंट

यदि आपके मनवांछित रेट पर शेयर उपलब्ध है तो ऑर्डर मैच हो जायेगा और जितने का शेयर खरीदा गया उतनी राशी ब्रोकरेज के साथ आपके बैंक खाते से निकाल ली जायेगी। खरीदे गये शेयर आपके डीमैट खाते में जुड़ जायेंगे। अब यह शेयर आपके डीमैट एकाउंट में वैसे ही पड़े रहेंगे जैसे आपके बैंक खाते में आपके पेसे पड़े रहते हैं। आपको यदि कोई बोनस शेयर मिलेगा तो इसी डीमैट खाते में मिल जायेगा। यदि कोइ डिविडेंड की घोषणा होगी तो वह भी आपके डीमैट खाते से जुड़े बैंक खाते में आ जायेगा।

शेयर बेचना

शेयर बेचने की प्रक्रिया इस से उलटी है। आप जो शेयर बेचना चाहते हैं वह शेयर आपके डीमैट खाते में होना जरूरी है। जैसे ही आप शेयर बेचेंगे, डीमैट खाते से शेयर हट जायेंगे और तीसरे दिन (खरीदे गये शेयर की श्रेणी पर निर्भर) आपके बैंक खाते में बेचे गये शेयरों की राशी ब्रोकरेज कट कर पहुंच जायेगी।

यहां हमने आसान हिंदी मे शेयर कैसे खरीदें और बेचें यह समझने की कोशिश की। आपके सदा आर्थिक रूप से फलने फूलने की शुभकामनाओं के साथ उम्मीद करते हैं कि आप शेयर बाजार में सफलताओं के नये शिखर प्राप्त करेंगे।


One thought on “शेयर कैसे खरीदें

Leave A Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *