निवेश कहाँ करें

निवेश कहाँ करें इन विकल्पों के बारे में जानिए और समझिए कि पैसा कहाँ इन्वेस्ट करें जहाँ आप का पैसा सुरक्षित रहे और आपको उचित रिटर्न भी मिले। निवेश के विकल्प जो कि पोस्ट ऑफ़िस, बैंक खाते, शेयर बाज़ार,रियल स्टेट या म्यूचुअल फंड के माध्यम से उपलब्ध हैं। कहाँ निवेश करें कि हमारी बचत बढ़ सके और हमारे फ़ायनैन्शल लक्षयों को पूरा कर सके फिर चाहे वो लक्ष्य घर बनाना हो, बच्चों की शिक्षा हो, बेटी की शादी या कोई अन्य।

निवेश कहाँ करें
निवेश कहाँ करें

बचत और निवेश में अंतर

वित्तीय उद्योग में दो अवधारणाएं हैं जो अधिकांश लेनदेन गतिविधियों का आधार बनती हैं। एक बचत है और दूसरा निवेश। आम तौर पर लोग इनमें फ़र्क़ नहीं कर पाते हैं मगर दोनों अवधारणाओं के बीच एक बड़ा अंतर होता है। मैंने अपने एक लेख में बचत और निवेश में अंतर को अच्छे तरीक़े से समझाया है। वित्तीय संदर्भ के निवेश का मतलब है आज किसी भी धन को भविष्य के समय सीमा में वित्तीय लाभ की उम्मीद में व्यय करना। कोई भी निवेश एक उम्मीद के साथ संपत्ति खरीदने या बनाने का कार्य है कि इससे ब्याज कमाई या लाभांश या पूंजीगत बढ़ोतरी या किसी भी अन्य रिटर्न का लाभ मिलेगा जो प्रारंभ में रखे गए पैसे की तुलना में लाभदायक है। निवेश पर खर्च किए गए पैसे मुख्य रूप से किसी विशिष्ट अवधि में कुछ प्रकार की वापसी प्राप्त करने के उद्देश्य से किए जाते हैं।

कई बार लोग निवेश और बचत का अंतर नहीं समझ पाते हैं। बचत और निवेश एक दूसरे से अलग हैं। कह सकते हैं कि धन को सुरक्षित रखना बचत है पर उस बचत को आक्रामक रूप से इस तरह बचाना कि उस से रिटर्न प्राप्त हो सके उसे निवेश कहेंगे। यदि आप बचत और निवेश के अंतर को समझ लेते हैं तो अब यह भी समझिए कि आपके लिए कौन सा निवेश अच्छा रहेगा और अपनी आवश्यकता के अनुसार निवेश कहाँ करें। आज यहाँ विस्तार से निवेश के विकल्पों की चर्चा की जा रही है।

निवेश कहाँ करें

निवेश की श्रेणी में आने वाले काफी लोकप्रिय निवेश के विकल्प हैं फिक्स्ड डिपॉजिट, शेयर, म्यूचूअल फ़ंड, बीमा और रियल एस्टेट इत्यादि। ये श्रेणियां निवेशकों के बीच काफी लोकप्रिय हैं क्योंकि आपके पैसे को बढ़ाने के लिए यह निवेश काफ़ी सहयोग करते हैं। निम्नलिखित निवेश उत्पाद हैं जिनके बारे में जान कर आप निश्चय कर सकेंगे कि निवेश कहाँ करें, किस निवेश में जोखिम की मात्रा कितनी है और बेहतर रिटर्न के लिए और पैसा कहाँ इन्वेस्ट करें।

शेयर मार्केट

स्टॉक या इक्विटी शेयर हैं जो कंपनियों द्वारा जारी की जाती हैं और आम जनता द्वारा खरीदी जाती हैं। यह कंपनियों का धन जुटाने का तरीक़ा है। स्टॉक एक कंपनी के स्वामित्व के हिस्से का अधिकार है। शेयर, स्टॉक और इक्विटी सभी का एक ही मतलब है। शेयर दुनिया में सबसे लोकप्रिय निवेश के साधनों में से एक हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि स्टॉक द्वारा मिलने वाला रिटर्न आमतौर पर किसी अन्य निवेश के साधन से अधिक होता हैं। हालांकि शेयरों में यदि उच्च रिटर्न मिलता है तो इनमें निवेश का जोखिम भी काफी अधिक है। शेयर बाज़ार में निवेश कहाँ करें यह जानने से पहले शेयर बाज़ार को जान लेना बहुत आवश्यक है।

लघु बचत योजनाएं

भारतीय वित्तीय बाजार में लघु बचत योजनाएं लोकप्रिय बचत उपकरण है। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, ये योजनाएँ छोटी मात्रा में पैसे बचाने के लिए हैं। इन निवेश योजनाओं के पीछे विचार लगभग सभी आर्थिक वर्गों से लोगों में बचत की आदत डालना है। छोटी बचतों में निवेश के लिए डाक घर बचत योजनाएँ बहुत महत्वपूर्ण हैं।  कुछ सबसे आम लघु बचत योजनाएं हैं सुकन्या समृद्धि योजना, ईपीएफ (कर्मचारी भविष्य निधि), एनपीएस (राष्ट्रीय पेंशन योजना), किसान विकास पत्र, व्यक्तिगत भविष्य निधि (पीपीएफ) आदि। लगभग सभी लघु बचत योजनाएं सरकार द्वारा शुरू की जाती हैं ताकि देश में बचत योजनाओं के प्रसार को बढ़ाया जा सके। आइए इनमें से कुछ सबसे प्रमुख योजनाओं को देखें।

कर्मचारी भविष्य निधि

कर्मचारी भविष्य निधि एक और लघु बचत योजना है जो मुख्य रूप से आपके एम्प्लॉअर द्वारा प्रदान की जाती है। इसमें निजी और सार्वजनिक दोनों संगठनों के वेतनभोगी व्यक्ति शामिल हैं। ईपीएफ योजना के लिए पंजीकरण करने के लिए 20 से अधिक कर्मचारी किसी भी कम्पनी में होना अनिवार्य है। प्रत्येक महीने लगभग 12% वेतन से कटौती की जाती है और कर्मचारी के ईपीएफ खाते में उसे जमा करवा दिया जाता है। यह ईपीएफ खाता कर्मचारी भविष्य निधि संगठन द्वारा रखा जाता है, जिसे आमतौर पर ईपीएफओ के नाम से जाना जाता है। ईपीएफ में जमा राशि पर आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर छूट मिलती है।


सुकन्या समृद्धि योजना

सुकन्या समृद्धि योजना एक विशेष योजना है जिसे बालिकाओं की वित्तीय कल्याण की सुविधा के लिए केंद्र सरकार द्वारा लॉन्च किया गया है। इस योजना को कन्या के माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा लिया जा सकता है और योजना के तहत कम से कम प्रति वर्ष 1000 रुपये की राशि जमा की जा सकती है। यह लड़की के 21 साल की उम्र तक पहुंचने के बाद परिपक्व हो जाती है। 18 साल की उम्र तक पहुंचने के बाद इस योजना से पैसे निकलने की अनुमति होती है यदि कन्या के लिए शादी या शिक्षा से संबंधित वित्तीय आवश्यकता होती है।

राष्ट्रीय पेंशन योजना

यदि आप सोच रहे हैं कि रेटायर्मेंट के लिए निवेश कहाँ करें तो राष्ट्रीय पेंशन योजना आपके लिए है। राष्ट्रीय पेंशन योजना निजी और सार्वजनिक दोनों क्षेत्रों में काम कर रहे व्यक्तियों को नियमित पेंशन राशि सुनिश्चित करने के लिए सबसे लोकप्रिय योजनाओं में से एक है। व्यक्तियों को या तो अपने कॉर्पोरेट भत्ते के हिस्से के रूप में एनपीएस की पेशकश की जाती है या वे स्वयं भी इस योजना में निवेश कर सकते हैं। एनपीएस में निवेश की गयी राशि आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर छूट के लिए पात्र है। इस योजना में खाता धारक के 60 वर्ष की आयु तक पहुंचने के बाद जमा राशि की वापसी की अनुमति है। परिपक्वता पर वापस निकाला गया कॉर्पस बिल्कुल कर मुक्त है।

म्यूचुअल फंड्स

म्यूचुअल फंड वित्तीय उपकरण हैं जो व्यावसायिक रूप से प्रबंधित होते हैं और विभिन्न प्रतिभूतियों में किसी भी निवेशक की ओर से पैसा निवेश करते हैं। इन म्यूचुअल फंडों को विभिन्न प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है, जिन पर वे निवेश करते हैं। कुछ सबसे लोकप्रिय म्यूचुअल फंड संतुलित फंड, स्टॉक फंड, ओपन-एंड फंड आदि हैं। इन फंडों को उनके प्रतिशत आवंटन के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। इक्विटी फंड पूरी तरह से इक्विटी में निवेश करता है और अधिक जोखिम और अधिक रिटर्न देने वाला निवेश है जबकि डेट फंड पूरी तरह से ऋण और मनी मार्केट उपकरणों में निवेश करता है और इसलिए कम जोखिम वाला निवेश है। आप अपने जोखिम के अनुसार विभिन्न तरह के म्यूचुअल फंड्स में से सुनिश्चहित कर सकते हैं कि अपनी ज़रूरतों के अनुसार निवेश कहाँ करें।

सावधि जमा

सावधि जमा यानी फ़िक्स्ड डिपॉज़िट पैसे बचाने के सबसे पुराने और सुरक्षित तरीकों में से एक हैं। ये आवश्यक रूप से सक्रिय निवेश उपकरण नहीं हैं, बल्कि रिटर्न बचाने और कमाई करने के लिए एक निष्क्रिय तरीका हैं। फ़िक्स्ड डिपॉज़िट बैंक, पोस्ट ऑफ़िस, NBFC या अन्य कम्पनियों में किया जा सकता है। फ़िक्स्ड डिपॉज़िट में निश्चित दिनों या महीनों या वर्षों के लिए एक निश्चित राशि को जमा किया जाता है। बदले में इस पैसे पर ब्याज अर्जित किया जाता है। ब्याज दर जमा अवधि के साथ और अलग अलग बैंकों में अलग अलग हो सकता ही।

रियल एस्टेट

प्रॉपर्टी की क़ीमतें हर गुजरने वाले दिन के साथ बढ़ रही है जिसने रियल एस्टेट को निवेशकों के लिए निवेश का बेहतरीन मौक़ा मिलता है। संपत्ति खरीदने और बेचने पर निवेशकों को पर्याप्त रिटर्न मिल सकता है। संपत्ति की की बढ़ती क़ीमतें इस अचल संपत्ति को एक अच्छा निवेश का विकल्प बनातीं है। शहरीकरण के तेजी से बढ़ने के साथ साथ रियल एस्टेट की कीमतें आसमान से ऊपर चढ़ रही हैं। इसने रियल एस्टेट निवेशकों के लिए अच्छे अवसर मिल रहे है। ज्यादातर निवेशक बैंकों से रियल एस्टेट खरीदने के लिए ऋण लेते हैं और फिर संपत्ति के मूल्य में बढ़ोतरी के कारण मुनाफ़ा कमा कर बेच देते हैं।

यहाँ हमने आपके सामने कई विकल्प प्रस्तुत किए जिससे स्पष्ट हो सके कि निवेश कहाँ करें, निवेश के कौन कौन से विकल्प उपलब्ध हैं और अपनी निवेश करने की क्षमता और रिस्क लेने की क्षमता के अनुसार पैसा कहाँ इन्वेस्ट करें जिससे आप अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकें।


Leave A Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *